BLOGGER TEMPLATES AND TWITTER BACKGROUNDS

Tuesday, December 1, 2009

A Few Things Unsaid!

Deep down the recesses of my heart,

Once lay a sea of unfathomable sentiments,

that flowed unguarded by the trajectories of

Vindictive vicissitudes of life,

Emancipated by a vicious circle of

Dwindling hopes and raging disbeliefs,

that once curbed the innocence of my inner being,

Subjecting my vulnerable soul to,

a sadistic circle of callous corporealities,

Until the juncture,

my feeble inner voice unfettered itself

from the nadir of inane illusions,

Came to my rescue,

and became one with me,

And trust me, when I say,

the journey has been

incredibly beautiful ever since then!

4 comments:

kannu said...

this was my first reaction after reading this blog..
आज
मन प्रसन्न है
इन पत्थरों की इमारतों के बीच
उभरते कवियों को देख कर

मन आज हर्षित है
इस तजारत की मंडी में
कल्पना की किरण को फूटता देख कर

मन लुभान्वित है
उस बाली उमरिया की कल्पनाओं में
नए संसार को खोजता देख कर

मन अनुकृत है
उन बचपन की यादों को
कविता में संजोता देख कर

मन आज आचार्जित है
परमाणु बम्बो की तपिश से लड़ती
काव्य पद की तलवार को देख कर

मन कृतज्ञ है
एक आशाहीन संसार में
जिंदगी का एक नया चेहरा दिखलाती
तस्वीर को देख कर

मन लुभान्वित है
उस किरण में समायी
सात रंगों की डोरी को
काले शब्दों में संजोता देख कर

मन आज हल्का है
किसी कविता को पढ़ कर
दिल में में छुपी
चोट को भरता देख कर

लिखो..
लिखो की सब
लिखने पे मजबूर हो जाये

सजाओ इस तरह की
सब प्रशंसा में ही डूब जाये

जगाओ इस तरह की
नफरत काफूर हो जाये

और लुटाओ प्रेम इस तरह......
की सपनो में दिखता संसार सच में बदल जाये:-)

१/१२/२००९
keep writing...stay blessed!

regards,
karan

The CarRioN's HasH said...

the unification of unconscious with the conscious nicely portrayed through some prodigious vocabulary...

=]...sea of unfathomable sentiments...incredible...=]

Mohita said...

@Karan

I'm falling short of words in expressing my heartfelt gratitude towards you for this incredible gesture.

All I can say, Thank you so much, from the bottom of my heart.

Mohita said...

@ The Carrion's Hash

I'm rendered speechless, every single time I read your comments.

I just love to read your feedback.

Thanking for following my blog.
Humbled!